Anulom Vilom, Anulom Vilom 20 Benefits in Hindi

Anulom Vilom, Anulom Vilom 20 Benefits in Hindi
Anulom Vilom, Anulom Vilom 20 Benefits in Hindi
अनुलोम विलोम :- अनुलोम विलोम योगा का ही एक प्रकार है . इसको करने से व्यक्ति को कई ऐसे लाभ होते हैं जो शरीर के लिए बहुत ही ज्यादा लाभदायक होते हैं .  साधारण भाषा में अनुलोम का मतलब सीधा और विलोम का मतलब उल्टा होता है . अनुलोम विलोम प्राणायाम में अनुलोम का मतलब नाक का सीधा छेद और विलोम का अर्थ नाक का  उल्टा छेद होता है . अनुलोम विलोम प्राणायाम में व्यक्ति अपनी नाक के सीधे छेद पर अपने दाहिने हाथ का अंगूठा रख के नाक के सीधे छेद को बंद कर लेता है और नाक के  उल्टे छेद से सांस को अंदर खींचता है और सांस खींचने के बाद अपनी दोनों उंगलियों से नाक के बाएं छेद को बंद करके नाक के सीधे छेद से सांस को भर छोड़ता है . जब कोई व्यक्ति इसी प्रक्रिया को बार-बार करता है तो उसे ही अनुलोम विलोम प्राणायाम कहा जाता है . जो व्यक्ति अनुलोम विलोम प्राणायाम करता है उस व्यक्ति को बहुत ही अधिक मात्रा में शारीरिक और मानसिक रूप से लाभ मिलते हैं . और आज हम आपको अनुलोम विलोम प्राणायाम करने के 20 लाभों के बारे में बताने वाले हैं . आइए जान लेते हैं अनुलोम विलोम करने के 20 फायदों के बारे में .

अनुलोम विलोम प्राणायाम के 20 फायदे

1.शरीर की सभी नाड़ियो को खोलता है

जो लोग नियमित रूप से अनुलोम विलोम प्राणायाम करते हैं उन लोगों के शरीर में छोटी से छोटी नाड़ी को भी अनुलोम विलोम प्राणायाम के द्वारा शुद्ध किया जा सकता है . अगर नाड़ियों की शुद्धि की बात की जाए तो अनुलोम विलोम प्राणायाम से शरीर की 72,72,10,210 नाड़ियों की शुद्धि की जा सकती है .इसलिए इसे नाड़ी शोधन प्राणायाम भी कहा जाता है .इसको करने से शरीर हमेशा स्वस्थ और शक्तिशाली रहता है .

2.वजन घटाने के लिए

अनुलोम विलोम एक ऐसा प्राणायाम है जिस को नियमित रूप से करने से वजन हमेशा नियंत्रित रहता है यदि किसी व्यक्ति का वजन बढ़ रहा हो तो उस व्यक्ति के वजन को कम करने के लिए अनुलोम विलोम प्राणायाम बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है . यह शरीर की अतिरिक्त चर्बी को कम करता है और शरीर को फिट रखता है .

3.सर्दियों से बचने के लिए

सर्दियों के दिनों में अगर कोई व्यक्ति अनुलोम विलोम प्राणायाम करता है तो उस व्यक्ति के शरीर के अंदर हमेशा गर्मी बनी रहती है . अनुलोम विलोम प्राणायाम को करने से हमारे शरीर का तापमान हमेशा संतुलित बना रहता है और सर्दी, जुकाम जैसी बीमारियों से भी हमें बचाए रखता है .

Also Read:- नीम के ऐसे फायदे आपने पहले कभी नहीं सुने होंगे. You have never heard of such benefits of Neem.

4.रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए

अगर कोई व्यक्ति हर रोज सुबह के समय नियमित रूप से 10 मिनट अनुलोम विलोम तो उस व्यक्ति के शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता हमेशा बढ़ती रहती है . जिस वजह से शरीर को कई बड़े रोगों से लड़ने की शक्ति मिलती है . अनुलोम विलोम को नियमित रूप से करने से डायबिटीज जैसी बीमारियां भी जड़ से खत्म हो जाती है .

5.साइनस की बीमारी के लिए फायदेमंद

जिन लोगों को साइनस जैसी बीमारियां होती है उन लोगों के लिए अनुलोम विलोम बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है . इसके अलावा अनुलोम विलोम करने से टॉन्सिल जैसी बीमारियों से छुटकारा मिलता है .


6.जोड़ों के दर्द और आर्थराइटिस की बीमारी में फायदेमंद

जो लोग नियमित रूप से अनुलोम विलोम करते हैं उन लोगों की जोड़ों की दर्द की समस्या या अर्थराइटिस जैसी बीमारियां भी जल्द से जल्द ठीक हो जाती है .

7.ब्रेन ट्यूमर के लिए फायदेमंद

अनुलोम विलोम प्राणायाम को करने से ब्रेन ट्यूमर जैसी बीमारियां भी जड़ से खत्म हो जाती है . इसके अलावा यह याददाश्त को तेज करने के लिए भी बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है . अगर किसी व्यक्ति या बच्चे को अपनी कमजोर याददाश्त से जूझना पड़ रहा है तो उस व्यक्ति या बच्चे को हर रोज सुबह के समय कम से कम 10 मिनट तक अनुलोम विलोम प्राणायाम जरूर करना चाहिए .

8.खून को शुद्ध करने के लिए

जब कोई व्यक्ति अनुलोम विलोम प्राणायाम को करते वक्त गहरी सांस लेता है तो गहरी सांस लेने की वजह से शरीर मौजूद खून अच्छी तरह से साफ हो जाता है और खून में मौजूद विषैले पदार्थ नष्ट हो जाते हैं . साधारण भाषा में अनुलोम विलोम खून की शुद्धि करता है .

Also Read:- योगा करने से क्या क्या फायदे होते है ?yoga benefits in Hindi .

9.हृदय की ब्लॉकेज नसों को खोलता है

अनुलोम विलोम करने से हृदय की ब्लॉकेज नसे आसानी से खुल जाती है इसके अलावा अगर किसी व्यक्ति का कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ रहा हो तो उस व्यक्ति को भी अनुलोम विलोम प्राणायाम जरूर करना चाहिए क्योंकि अनुलोम विलोम प्राणायाम करने से शरीर का बेड कोलेस्ट्रॉल धीरे धीरे कम होने लगता है और खत्म हो जाता है .

10.फेफड़ों के लिए फायदेमंद

अगर कोई व्यक्ति अनुलोम विलोम प्राणायाम किसी गार्डन या बगीचे में करता है तो उस व्यक्ति के लिए बहुत ही ज्यादा फल लकी वहां की शुद्ध वायु फेफड़ों के अंदर जाती है जो फेफड़ों को मजबूत बनाती है . इसकी वजह से हमारे फैसले हमेशा स्वस्थ रहते हैं और सही ढंग से काम करते हैं .

11.बुढ़ापे में फायदेमंद

जो लोग नियमित रूप से अनुलोम विलोम प्राणायाम करते हैं उन लोगों को बुढ़ापे में इसका बहुत ही ज्यादा फायदा मिलता है क्योंकि अनुलोम विलोम को नियमित रूप से करने से शरीर में गठिया, जोड़ों का दर्द व सूजन दूर हो जाती है .


12.वात, पित्त और कफ

जो लोग नियमित रूप से अनुलोम विलोम प्राणायाम करते हैं उन लोगों को वात, पित्त और कफ जैसी परेशानियों से जूझना नहीं पड़ता है . अनुलोम विलोम प्राणायाम वात, पित्त और कफ जैसी बीमारियों को पर अपने से पहले ही खत्म कर देता है .

13.आंखों के लिए फायदेमंद

जो लोग नियमित रूप से हर रोज अनुलोम विलोम प्राणायाम करते हैं और लोगों की आंखों की रोशनी तेज होती है .अगर किसी व्यक्ति की आंखों की रोशनी कमजोर है और वह चश्मा लगाने का आदी है तो उस व्यक्ति को हर रोज नियमित रूप से अनुलोम विलोम प्राणायाम जरूर करना चाहिए .

14.रक्त का संचालन

अनुलोम विलोम नियमित रूप से करने से शरीर का रक्त संचालन हमेशा सही रहता है और नियंत्रित रूप से शरीर के अंदर काम करता है . अगर किसी व्यक्ति को ब्लड सरकुलेशन जैसी कोई परेशानी है तो उस व्यक्ति को अनुलोम विलोम प्राणायाम को जरूर करना चाहिए .

15.अनिद्रा रोग के लिए फायदेमंद

अगर कोई व्यक्ति या महिला अपनी अनिद्रा जैसी बीमारी से परेशान है तो उस व्यक्ति को रात को सोने से पहले 10 मिनट अनुलोम विलोम बिल्कुल शांत होकर करना चाहिए इससे उस व्यक्ति या महिलाओं को बहुत ही अच्छी और गहरी नींद आ जाएगी .

16.माइग्रेन, तनाव जैसी बीमारियों में फायदेमंद

अनुलोम विलोम प्राणायाम एक ऐसा प्राणायाम है जिसको अगर व्यक्ति नियमित रूप से करता है तो उस व्यक्ति को कभी भी माइग्रेन, तनाव, गुस्सा और चिड़चिड़ापन जैसी कोई भी समस्या नहीं होती है तथा वह हमेशा दिमागी तौर पर स्वस्थ रहता है . अगर आप हमेशा समस्याओं से दूर रहना चाहते हैं तो नियमित रूप से अनुलोम विलोम जरूर करें .

17.दिमाग के लिए फायदेमंद

आज के समय में ऐसे बहुत से लोग और बच्चे हैं जो अपनी दिमागी बीमारियों से काफी ज्यादा परेशान रहते हैं उन लोगों को नियमित रूप से अनुलोम विलोम प्राणायाम जरूर करना चाहिए क्योंकि अनुलोम विलोम प्राणायाम करने से दिमाग की सभी ना से आसानी से खुल जाती है और दिमाग पहले से कहीं ज्यादा अच्छा काम करता है और आपकी सकारात्मक सोच को भी बढ़ाता है .

18.एलर्जी और चर्म रोग के लिए फायदेमंद

अनुलोम विलोम प्राणायाम को करने से शरीर की सभी नाड़ियां एक्टिव हो जाती है जिस वजह से अगर किसी व्यक्ति को एलर्जी या चर्म रोग जैसी बीमारी हो रही हो तो उस व्यक्ति की यह बीमारियां जड़ से खत्म हो जाती है इसलिए हर एक व्यक्ति को अनुलोम विलोम प्राणायाम जरूर करना चाहिए .


19.अस्थमा के मरीजों के लिए फायदेमंद

अगर किसी व्यक्ति को काफी ज्यादा समय से अस्थमा की बीमारी है तो उस व्यक्ति को नियमित रूप से अनुलोम विलोम प्राणायाम जरूर करना चाहिए क्योंकि अनुलोम विलोम शरीर की सभी नसों को बहुत ही आसानी से खोल देता है जिस वजह से अस्थमा जैसे रोग भी अनुलोम विलोम प्राणायाम के सामने नहीं टिक पाते हैं .

20.ब्लड प्रेशर में फायदेमंद

अगर कोई व्यक्ति नियमित रूप से अनुलोम विलोम प्राणायाम करता है तो उस व्यक्ति का हाई ब्लड प्रेशर हो या फिर लो ब्लड प्रेशर हमेशा नियंत्रित रहता है . क्योंकि शरीर के अंदर ब्लड सरकुलेशन हमेशा नियंत्रित रहता है जिस वजह से किसी भी व्यक्ति को ब्लड प्रेशर की कोई बीमारी नहीं होती है इसलिए अगर आप हमेशा स्वस्थ और फिट रहना चाहते हैं तथा किसी भी बीमारी से दूर रहना चाहते हैं तो आपको हर रोज नियमित रूप से कम से कम 10 मिनट अनुलोम विलोम प्राणायाम को जरूर करना चाहिए .
Previous
Next Post »